हिंदी सिनेमा और साहित्य में संवेदना का संकट

“अब जब तुम देखोगे चेहरा अपना पहचान जैसा सब कुछ, कुछ नहीं होगा कहीं भी, बदली-बदली है विश्व संरचना इन दिनों” बदलती हुई इस विश्व संरचना के दौर में जहाँ दुनियाँ तेजी से बदल रही है। वहीं उसके भीतर की… Read More

PAAN MASALA

नशे की पहली ख़ुराक : इलायची की आड़ में गुटखे का विज्ञापन

फिल्मों के बाद अभिनेताओं और अभिनेत्रियों ने जिस तरीके से सपनों की दुनिया दिखलाने के साथ-साथ इंसानी रिश्तों, जज़बातों और उसके भावनाओं को सबसे ज्यादा कैश कराने का काम किया है, उसमें विज्ञापनों की एक बहुत बड़ी दुनिया है। जो… Read More

kasaai

मूवी रिव्यू : आम फ़िल्म नहीं है कसाई

जब आप यह नाम सुनते है तो दिमाग में एक चित्र उभरता है कि एक व्यक्ति के हाथ में एक धारदार हथियार है जो जानवरों को काटने का काम भी आता है लेकिन यहाँ जानवरों को मारने वाले कसाई को… Read More

Rahat Indori

मशहूर शायर व गीतकार राहत इंदौरी को अंतिम सलाम

साइनबोर्ड पेंटर से टॉप सांग राइटर तक राहत इंदौरी कोई व्यक्ति अपनी मेहनत, प्रतिभा और हौसले से अपनी हैसियत कैसे बदल सकता है उसका एक बेहतरीन उदाहरण गीतकार डॉ. राहत इंदौरी हैं। वे एक साइनबोर्ड पेंटर से कॉलेज के अध्यापक… Read More

kavita bhabhi

वेब सीरीज रिव्यू : यह भाभी बहकाती है ‘कविता भाभी’

निर्माता- अली गुलरेज़, कविता राधेश्याम और फैसल सैफ निर्देशक- फैसल सैफ स्टार कास्ट- कविता राधेश्याम, अमिता नांगिया, दिव्या द्विवेदी, निशांत पांडे प्लेटफ़ॉर्म- उल्लु और एमएक्स प्लेयर रेटिंग- 3 कविता भाभी के आठ सेक्सी एपिसोड एक सेक्सी और कामुक शादीशुदा महिला… Read More

kajol

जन्मदिन पर विशेष : हिंदी सिनेमा की संवेदशील अभिनेत्री “काजोल”

आज अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद से बॉलीवुड में नेपोटिज्म मीडिया में सबसे अधिक चर्चित विषय चल रहा है। खासकर टीवी चैनलों में तो ये मुद्दा खूब छाया रहा है। आज बॉलीवुड की एक काबिल अभिनेत्री काजोल… Read More

writer shakeel badayuni

जयंती पर विशेष : उर्दू के शायर और साहित्यकार शकील बदायूँनी

हिंदी सिनेमा की सबसे बड़ी हिट और क्लासिक फिल्मों में शुमार मुगल ए आजम का मशहूर गीत जब प्यार किया तो डरना क्या जिस शायर ने लिखा है वो जनाब शकील बदायूँनी थे। शकील ऐसे शब्द चुनते थे सीधे दिल… Read More

Shakeel

जन्मदिवस विशेष : गीतकार शकील बदायूँनी

हिन्दी सिनेमा में “चौदहवीं का चांद हो या आफ़ताब हो”… (चौदहवीं का चांद) या फिर “प्यार किया तो डरना क्या”…(मुग़ले आज़म) जैसे गीतों के जरिये  अपनी अमिट छाप छोड़ने वाले मशहूर शायर और गीतकार “शकील बदायूँनी” जी का आज जन्म… Read More

Communalism in Indian cinema and literature

भारतीय सिनेमा एवं साहित्य में साम्प्रदायिकता

हम जब किसी धार्मिक समुदाय की बात करते हैं, तो इस बात को भूल जाते हैं कि वह समुदाय एक आयामी नहीं होता। उसमें वे सभी भेद- विभेद होते हैं जो दूसरे धार्मिक समुदायों में होते हैं। एक अभिजात मुसलमान… Read More

Actor Sanjay Dutt

जन्मदिन पर विशेष : संजय दत्त बड़े बाप के बिगड़ैल बेटे

संजय दत्त के जीवन की कहानी भी काफी फिल्मी रही है। उसमें काफी उतार चढ़ावा रहा है इसलिए ये काफी रोचक भी है। #सुनील दत्त और #नरगिस दत्त जैसे दो प्रख्यात कलाकारों का बेटा। हिंदू बाप और मुस्लिम मां के… Read More