durgama

कविता : पूजो मातारानी को

करे जो पूजा और भक्ति नवरात्रि के दिनों में। और करते है माता की साधना और उपासना। तो मिलता है उन्हें सूकून अपने जीवन में। और हो जाती पूरी उनकी इच्छाएं इन दिनों में।। माता के नौ रूपों को जो… Read More

navratriprav

कविता : माँ के रूप अनेक

मन मंदिर में आन विराजो मेंहर वाली मातारानी। दर्शन की अभिलाषा लेकर आ गये हम मेंहर में। तुमको अपने दर्शन देने बुला लो हमें मंदिर में। हम तो तेरे बच्चे है काहे घूमा रही हो दुनिया में।। कितने वर्षो से… Read More

uljhany

कविता : अपनी उलझने

न मन पढ़ने में लगता है न दिल लिखने को कहता है। मगर विचारो में सदा ये उलझा सा रहता है। करू तो क्या करू अब मैं समझ में कुछ नहीं आ रहा। इसलिए तो हमारा दिल अब एकाकी सा… Read More

kalm

कविता : क्यों करता हूँ कागज काले..??

क्यों करता हूं कागज काले …?? बैठा एक दिन सोच कर यूं ही , शब्दों को बस पकड़े और उछाले । आसमान यह कितना विस्तृत ..? क्या इस पर लिख पाऊंगा ? जर्रा हूं मैं इस माटी का, माटी में… Read More

narisakti

कविता : नारी को जाने और समझे

दिखाये आँखें वो हमें जब मनका काम न हो उसका। तब बहाना ढूँढती रही हमें शर्मीदा करने का। यदि इस दौरान कुछ उससे पूछ लिया तुमने। तो समझ लो तुम्हारी अब खैर नहीं है।। अलग अलग तरह के रूप देखने… Read More

sun light

कविता : सूरज देता है

सूरज की किरणें प्रकाश देती है। जीवो को जीने की ऊर्जा देती है। भूमि की नमी को दूर करती है। और फसलों को पकाती है।। दिन रात का अंतर हम लोग। सूर्य के प्रकाश से लगाते है। अंधरो में रोशनी… Read More

niswarath

कविता : नेकी का फल

चूमती है सफलता उस समय कदम। जब लक्ष्य हो अपना नेकी पर चलने का। है अगर निस्वार्थ भाव यदि स्वयं के अंदर। तो मिलेगा फल निश्चित अपने नेक कर्मो का।। देखकर बहुत जलते रहते है तुम से। पर तुम्हारे त्याग… Read More

aatmchintan

कविता : रीति रिवाज

रीति रिवाजो को अपनाना जरूरी है। सम्मान देना पाना भी जरूरी है। जो आपके संस्कारों को दर्शते है। और समाज में प्रतिष्ठा दिलाते है।। देखा देखी में खुदको मत झोंको। पहले स्वयं की चादर को देखो। फिर जिंदगी में आगे… Read More

maanchintan

कविता : मन में मैल हो तो

तन पर कपड़ा है पर मन में मैल। तो कैसे आयेगी शांति आपके मन के अंदर। करो आत्म मंथन स्वंय का तब खुदको पहचान पाओगें। और अपने मानव रूप को निश्चित ही समझ जाओंगे।। संगत और विचारो का बहुत महत्व… Read More

dosti

कविता : खड़ा हूँ दोस्त के लिए

दिलमें प्यास हो मिलने की तो वो अक्सर मिल जाते है। जमाने में इसी तरह से अपने दोस्त बनाते है। वो हमें याद करते है हम उन्हें भूल जाते है। मगर मिले की तमन्ना। सदा ही दिलमें रखते है।। मेरे… Read More