ram

कविता : डर नहीं अब राम का

राम थे महान इसलिए करते है उनका सदा गुण गान। राम थे मर्यादा पुरूषोत्तम इसलिए शक्तिशाली थे। राम थे विष्णु के अवतार इसलिए पृथ्वीवासियों के दुख हरने आये थे। बातें राम की करते है नहीं अपनाते उनका आचरण। बस राम… Read More

mai pita nahin

कविता : कैसे कहूँ पीता नहीं

कैसे कह दूं कि मैं पीता नही हूँ। रोज जीने के लिए मैं पीता हूँ। जिंदगी में इतना सहा है हमने। न पीते तो कब के मर गए होते।। बड़ी ही जालिम है ये दुनियाँ। छेड़े बिना लोग रह नहीं… Read More

sas bahu

कविता : सास बहू का रिश्ता

सास बहू का रिश्ता में तुम को समझता हूँ। हर घर की कहानी तुमको मैं सुनाता हूँ। सुनकर कुछ सोचना, और कुछ समझना। सही बात यदि मैंने कहीं हो तो बता देना।। सास-बहू का रिश्ता बड़ा अजीब होता है। बहू… Read More

gyan

कविता : पहचान

हृदय में करुणा भर कर सबका सम्मान रूप और यौवन पर मत कर अभिमान परिश्रम से ही होता हर स्वप्न साकार ईर्ष्या और घृणा से मिलता नहीं प्यार ज्ञान से ही संभव है मनुज का उत्थान कर्मों से ही बनती… Read More

rishte

कविता : रिश्तों को बनाये रखें

रिश्तो का बंधन कहीं छूट न जाये। और डोर रिश्तों की कहीं टूट न जाये। रिश्ते होते है बहुत जीवन में अनमोल। इसलिए रिश्तो को हृदय में सजा के रखें।। बदल जाए परिस्थितियाँ भले ही जिंदगी में। थाम के रखना… Read More

hmara hindustaan

गीत : हमारा हिंदुस्तान

है प्यारा बहुत देश हमारा हिन्दुतान। है संस्कृति इसकी सबसे निराली है। कितनी जातिधर्म के, लोग रहते यहाँ पर। सब को स्वत्रंता पूरी है, संविधान के अनुसार।। कितना प्यारा देश है हमारा हिंदुस्तान। इसकी रक्षा करनी है आगे तुम सबको।।… Read More

kalyan ka path

कविता : कल्याण का पथ

छोड़कर सब कुछ अपना शरण तुम्हारी आया हूँ। अब अपनाओं या ठुकराओं तुम्हें ही निर्णय करना है। मेरी तो एक ही ख़्यास गुरुवर तुम से है। की अपने चरणों में मुझे जगह तुम दे दो।। किया बहुत काला गोरा मैंने… Read More

husband wife

कविता : घर गृहस्थी समझा

न गम का अब साया है, न खुशी का माहौल है। चारों तरफ बस एक, घना सा सन्नाटा है। जो न कुछ कहता है, और न कुछ सुनता है। बस दूर रहने का, इशारा सबको करता है।। हुआ परिवर्तन जीवन… Read More

aalingan

कविता : आलिंगन

पृथक् थी प्रकृति हमारी भिन्न था एक-दूसरे से श्रम ईंट के जैसी सख़्त थी वो और मैं था सीमेंट-सा नरम भूख थी उसको केवल भावों की मैं था जन्मों-से प्रेम का प्यासा जगत् बोले जाति-धर्म की बोली हम समझते थे… Read More

titli

कविता : अभी भी वक्त है

ये कैसा दौर है अभी सब दर्द दर्द है, खामोश आँसुओं के मुख विषाद सर्द है। सब जी रहे तड़प-तड़प कुसूर का पता, लगा रहे सभी सम्भल अभी वो लापता। जब मौत नाचती है सिर पे यादें लौटती, किया था… Read More