kisaan

गीत : किसान

किसान क्या होते है तुम गांव वालो से पूछो। ये वो शख्स होते है जो खाने देते सबको अन्न। किसान क्या होते है तुम गांव वालो से पूछो।। परन्तु इसकी झोली में नहीं मिलता उसका हक, यहीं से गरीबी का… Read More

ravan

गीत : रावण को भी सुने

रावण कहता है एक बात मेरी सुन लो। क्यों वर्षो से मुझे यूं जलाये जा रहे हो। फिर भी तुम मुझे जला नहीं पा रहे हो। हर वर्ष जलाते जलाते थक जाओगे। और एक दिन खुद ही जल जाओगे।। मैंने… Read More

sahitya bik raha

गीत : साहित्य बिक रहा…

सोना चांदी हीरे मोती, तो तुम पहले बेच चुके। बचा हुआ था साहित्य, जिसको अब तुम बेच रहे। सब कुछ खत्म हो जायेगा, बस थोड़ा सा इंतजार करो। वो दिन भी अब दूर नहीं, जब स्वयं को ही खोजोगे।। क्योंकि,… Read More

pranav mukharji

गीत : प्रणव दा पर तीन घनाक्षरी छंद

पाया है भारत रत्न राष्ट्र के सपूत थे वे, दुनिया में भारत को गौरव दिला गए। राष्ट्रपति पांच साल तक रहे देश के वे, बुद्धिमत्ता से वे विश्व गगन पे छा गए।। आंग्लभाषा में लिखी है पुस्तकें प्रणवदा ने, जमाने… Read More

moksh ka path

गीत : मोक्ष जाने का पथ

छोड़ दो मिथ्या दुनियाँ , सार्थक जीवन के लिए। इससे बड़ा सत्य कुछ, और हो सकता नहीं। चाहत अगर प्रभु को पाने की हो । तो ये मार्ग से अच्छा कुछ, और हो सकता नहीं।। छोड़ दो…….।। मन में हो… Read More

fateh-e-zindagi

तीन मुक्तक : फतह-ए-जिंदगी

सच्चाई के वास्ते तो हम ख़ुदा से ले लेंगे रार तक कभी भी नहीं रूकेंगें जीवन में मौत से हार तक जब तक रहेगा अपने मन में एक अटल विश्वास तब तक उठेंगी हिलोरें धरा से गगन के पार तक… Read More

ashirwaad

भजन : आशीर्वाद से

तेरा आशीष पाकर, सब कुछ पा लिया हैं। तेरे चरणों में हमने, सर को झुका दिया हैं। तेरा आशीष पाकर …….। आवागमन गालियां न हत रुला रहे हैं। जीवन मरण का झूला हमको झूला रहे हैं। आज्ञानता निंद्रा हमको सुला… Read More

niyamit mandir jaayen

गीत : नियमित मंदिर जाए

जब भोर हुए आना, जब शाम ढले आना। संकेत प्रभु का, तुम भूलना जाना, जिनेन्द्रालाय चले आना। जब भोर हुए आना, जब शाम ढले आना।। मैं पल छीन डगर बुहारूंगा, तेरी राह निहारूंगा। आना तुम जिनेन्द्रालाय दर्शन को , करना… Read More

mat samjho beti ko parai

गीत : मत बेटी नै समझो पराई

मत बेटी नै समझो पराई | हो बेटी खरा धन भाई || 1 बेटां पै पड़ै बेटी भारी , बेटी हो घणी आज्ञाकारी , ना ल्यावै कदे बुराई | हो बेटी खरा धन भाई || 2 दया , त्याग की… Read More

vartamaan ke vardhamaan vidyasagar

गीत और भजन : वर्तमान के वर्धमान विद्यासागर

तुम हो कलयुग के भगवान गुरु विद्यासागर। तुम हो ज्ञान के भंडार गुरु विद्यासागर। हम नित्य करें गुण गान गुरु विद्यासागर।। बाल ब्रह्मचारी के व्रतधारी संयम नियम के महाव्रतधारी। तुम हो जिनवाणी के प्राण गुरु विद्यासागर। हम नित्य करे गुण… Read More