अन्तर्राष्ट्रीय मातृभाषा दिवस पर विशेष

हिंदी का हित/अहित करती हिंदी संस्थाएं प्रत्येक हिंदी सेवी संस्था दम भरती है कि एक वही संस्था है जो हिंदी के लिये पूर्णत: और सत्य के अंतिम छोर तक समर्पित है, बाकी की संस्थाएं तो हिंदी के नाम पर पैसा… Read More

अपनों के बीच वजूद तलाशती हिंदी

आज हिंदी दिवस के उपलक्ष्य में पूरा सोशल मीडिया हिंदी के बखान अथवा हिंदी की खामियों से पटा पङा है। हिंदी  दिवस हम प्रतिवर्ष 14 सितंबर मनाते हैं, क्योंकि 14 सितंबर 1949 को हिंदी  को राज-भाषा घोषित किया। यह तारीख… Read More

हिंदी लेखकों और पत्रकारों के साथ घटतौली की अनंत कथा

हिंदी में अजब घटतौली है। कमोवेश हर जगह। क्या प्रकाशक, क्या संपादक, क्या अखबार या पत्रिकाएं। सब के सब एक लेखक नाम के प्राणी को गरीब की जोरु को भौजाई बनाने का सुख लूट रहे हैं। जाने कब से। पहले… Read More

प्यार, स्नेह और दया का पोषक है हिंदी

हिंदी भाषा का 1000 वर्ष का हमारा ये गौरव शाली ईतिहास हमें यह बताता हैं की मेरी जड़े इतनी कमजोर नही हैं की जो भी आएगा मुझे उखाड़ कर फेक सकेगा | बल्कि मुझ मे इतना प्रेम, स्नेह भरा हैं… Read More

राष्ट्र की पहचान है भाषा

किसी भी राष्ट्र की पहचान उसकी अपनी भाषा से होती है। बहु भाषा-भाषी भारत में हिंदी भाषियों की संख्या सर्वाधिक है। आंकड़ो के मुताबिक देश-दुनिया में 125 करोड़ से अधिक लोग हिंदी बोलते/समझते हैं। स्वाधीनता आंदोलन की सशक्त आवाज़ रही… Read More

हिंदी है हम

हिंदी है हम वतन हिन्दोस्तां हमारा, यह बात बिल्कुल ठीक है। और हिन्दुस्तान में रहकर हिंदी की अनभिज्ञता बात ठीक नहीं है। हिंदी हमारी राजभाषा हो या न हो राष्ट्रभाषा जरूर है। संविधान के भाग -17 तथा अनुच्छेद 343  से … Read More

2050 तक हिंदी दुनिया की सब से बड़ी भाषा बनने जा रही है

पंख फैला कर उड़ पड़ी है हिंदीदुनिया अब हिंदी की तरफ़ बड़े रश्क से देख रही है। अमरीका, चीन जैसी महाशक्तियां भी अब हिंदी सीखने की ज़रूरत महसूस कर रही हैं और कि सीख रही हैं क्योंकि हिंदी के जाने… Read More

हिंदी हमारी मातृभाषा

हिंदी के प्रचार में, हिंदी के प्रसार में।उठा रहे हैं जो कदम, उनको है मेरा नमन।।मिलकर करें सम्मान हम, मिलकर करें आव्हान हम।मिलकर सजाएँ हिंदी चमन, हिंदी को मेरा नमन।।भाषा, विचारों के आदान प्रदान का सुलभ माध्यम होने के साथ… Read More

लद्दाख में हिंदी

इसी सितंबर के शुरू में हिंदी-कश्मीरी संगम के बैनर तले बीस से अधिक लेखक लद्दाख के लेह नगर में जमा हुए। चार दिन के कार्यक्रम में पहले दो दिन साहित्य पर खुली बातचीत के लिए थे और बाद के दो… Read More

कर्तव्य बोध का दिन : 14 सितंबर

कहने को तो हिंदी हमारी भाषा है और इसके लिए ही हिन्दी दिवस प्रत्येक वर्ष 14 सितम्बर को मनाया जाता है। 14 सितम्बर 1949  को संविधान सभा ने एक मत से यह निर्णय लिया गया था कि हिन्दी ही भारत की… Read More