bachpan

जब अपने मिल जाते हैं
खुशी से मन इतराता है।
छलक जाते है आँसू
पुरानी यादें आने पर।
खुशी के वो सारे पल
सामने आने लगते है।
और हम खो जाते हैं
उन बीते हुए दिनों में।।

भूलकर भी भूलता नहीं
उन बचपन के दिनों को।
जब किया करते थे हम
बहुत शरारते उन दिनों में।
अब याद उन्हें करके
खुद ही शरमा रहे है।
और अपने बचपन को
फिर से जिंदा कर रहे है।।

कार्य की व्यस्ता और जिम्मेदारियों ने
सभी कुछ भूलाकर रख दिया।
मानो खुशियों से हमारा
नाता ही छीन लिया।
तभी तो झूम उठाते है
जब कोई अपना मिल जाता है।
और बचपन याद आने लगा है
उनसे पुरानी बाते करने पर।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *