web series image

वेब सीरीज आज मनोरंजन की दुनिया में लगातार अपने पांव पसार रहा है। TVF के माध्यम से मैंने शुरुआती दौर में Permanent Roommates और Pitcher को जब मैंने देखा तो एक बार लगा, इससे बेहतर वेब सीरीज नही आ सकती। ऐसा इसलिए था कि मेरी कोई खास उम्मीद भी नही थी और सीरीज छोटी भी थी। लेकिन बहुत ही कम समय में मेरे ये विचार Amazon की वेब सीरीज Breathe देख कर बदल गए। शुरूआत की वेब सीरीज में कंटेन्ट हावी रहता था जिसकी वजह से वो उतनी लंबी नही खिंचती थी। इसके बाद तो सेक्रेड गेम्स, मिर्ज़ापुर, इनसाइड एज, होम, गुल्लक आदि ने पूरी तरह से मुझे अपनी गिरफ्त में ले लिया। परमानेंट रूममेट्स की बात करे तो आज के युवा की बात करते हुए, उनकी सोच बताता है कि उनकी लाइफ की प्रायोरिटी में शादी, कैरियर और बच्चे को लेकर क्या सोच है। बड़े ही कॉमिक अंदाज़ में लिखा हुआ ये वेब सीरीज  सुमित व्यास और निधि सिंह की एक्टिंग के लिए  देखा जा सकता है। मुझे जिस वेब सीरीज ने सबसे रोमांचित किया, वो है पिचर। 4 दोस्तो की कहानी एक स्टार्टअप खोलने को लेकर है, जिसमे आप खुद को भी महसूस करते है। दोनों वेब सीरीज की खासियत ये है कि दोनों ही अपनी क्वालिटी की वजह से आज भी बहुत पॉपुलर है। इनके अलावा थ्रिलर वेब सीरीज की बात करे तो Breathe आपको सच में थ्रिल करता है। अगर आप वेब सीरीज की बात करे तो कोर्ट रूम ड्रामा और थ्रिलर के बिना अधूरा है। क्रिमिनल जस्टिस में विक्रांत Messy और पंकज त्रिपाठी अभिनीत इस वेब सीरीज की में जिस तरह एक लोअर मिडिल क्लास इंसान को कोर्ट में अपने आप को साबित करना कितना मुश्किल है। इस वेब सीरीज की सबसे अच्छी बात इसका रियल लोकेशन पे सूट होना है। खास कर जेल की अंदर की ज़िंदगी को बिना किसी बात के बड़ा करके दिखाने की बजाए रियलिटी के नज़दीक रखा गया है।

          इन वेब सीरीज की सबसे बड़ी खासियत इनकी स्क्रिप्ट होती है। दूसरी बात ये की इनको बड़ी स्क्रीन की जरूरत नही होती है जिसकी वजह से कलेक्शन का प्रेसर भी नही होता है। अगर कोई वेब सीरीज अच्छी है तो माउथ पब्लिसिटी से इनको ऑडियंस भी अपने आप मिल जाती है। अब सभी सफल वेब सीरीज का सीक्वल भी आ रहा है, जिसमे सेक्रेड गेम्स, मिर्ज़ापुर, Breathe, इनसाइड एज मुख्य है। खास बात जो देखने वाली है वो ये की नवाज़, अभिषेक बच्चन, अमित साध, प्रतीक बब्बर, सैफ अली खान, जैसे स्टार्स को वेब सीरीज में अपने कैरियर को आगे बढ़ाने का मौका मिलेगा वही दर्शकों को भी घर बैठे इन सितारों से मिलने के लिए थिएटर का रुख़ नही करना पड़ेगा।

         वेब सीरीज की दुनिया की कमी की बात करे तो ऑल्ट बालाजी जैसे प्रोड्यूसर ने इनमे सेक्स और अपराध का जो कॉकटेल डाल कर इसको परोसने की कोशिश की है वो बिल्कुल ही बनावटी लगता है। दूसरी बात है कि कुछ वेब सीरीज प्रो गवर्नमेंट और एन्टी गवर्नमेंट भी बन रहे है। मैं खास जिक्र करना चाहूंगा, लीला का, जिसमे तो ये तक दिखाया गया है कि कैसे आर्यावर्त देश में माइनॉरिटी को मारा जा रहा है। साफ नजर आता है कि कला के नाम पे आप कुछ भी दिखा देना चाहते है। सरकार को वेब सीरीज में भी सेंसर को लेकर आना चाहिए।

    अंत में यही कहा जा सकता है कि बढ़िया सीरीज ने फिल्मों पे ये दबाब जरूर बना दिया है कि वो भी अब करण जौहर जैसे डायरेक्टर भी फार्मूला फिल्म्स को छोड़े और कुछ क्रिएटिव एक्सपेरिमेंट करें।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *