prashan

न दिल भरता है
न प्रभु मिलता है।
बस चारों तरफ
अफरातफरी का माहौल है।।

न प्रश्न बचे है
न उत्तर मिले है।
प्रश्नों पर प्रश्न ही
लोगों ने खड़े किये है।।

न समानता पहली थी
और न आज है।
पर बातें समानता की
हमेशा होती है।।

पर समानता आज भी
लोगो से कोषों दूर है।
क्योंकि सोच आज भी
लोगों के दिल मे वहीं है।।

गुजरा समय लौटकर
कभी आता नहीं।
बाण बातों का भी
वापिस आता नहीं।।

पहले और अब में
क्या बदल गया है।
सोच विचारकर देखो
कुछ तो समझ आएगा।।

इंसान बदला है या
उस की फितरत।
कुछ तो सही बोलकर
समाज को बताओ।।

सुखी थे तो दुख भी
एक दिन आना था।
कालचक्र को संसार मे
अब तो घूमना ही था।।

बदल गई बहुतों की
किस्मतो की लकीरें।
इस महामारी में भी
इंसानियत धर्मनिभा पाये।।

जन्म लेकर बहुत आते है
पर सफलता कुछ ही पाते है।
कुछ तो अच्छा करके भी
सुख नहीं पा पाते है।

शायद उनके पूर्व जन्म के
कर्म ही सामने आ जाते है।
जिसके चलते अपने को
असहाय ही पाते है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *