Beti

सर उठा कर चल नहीं सकता
बीच सभा के बोल नहीं सकता
घर परिवार हो या गांव समाज
हर नजर में घृणा का पात्र हूँ।
क्योंकि “बेटी” का बाप हूँ ।।

जिंदगी खुलकर जी नहीं सकता
चैन की नींद कभी सो नहीं सकता
हर एक दिन रात रहती है चिंता
जैसे दुनिया में कोई श्राप हूँ।
क्योंकि “बेटी” का बाप हूँ।।

दुनिया के ताने कसीदे सहता,
फिर भी मौन व्रत धारण करता,
हरपल इज़्ज़त रहती है दाँव पर,
इसलिए करता ईश का जाप हूँ !
क्योंकि “बेटी” का बाप हूँ !!

जीवन भर की पूँजी गंवाता,
फिर भी खुश नहीं कर पाता,
रह न जाए बेटी की खुशियो में कमी,
निश दिन करता ये आस हूँ,
क्योंकि “बेटी” का बाप हूँ।।

अपनी कन्या का दान करता हूँ
फिर भी हाथजोड़ खड़ा रहता हूँ।
वरपक्ष की इच्छा पूरी करने के लिए
जीवन भर बना रहता गूंगा आप हूँ
क्योंकि “बेटी” का बाप हूँ।।

देख जमाने की हालत घबराता
बेटी को संग ले जाते कतराता।
बढ़ता कहर जुर्म का दुनिया में
दोषी पाता खुद को आप हूँ।
क्योंकि “बेटी” का बाप हूँ।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *