makar sankranti

मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है
निकलेंगे घरों से हम
तोड़ बंधनों को सब
जकड़ें हैं जिसमें सर्दी से
बर्फ़ शीत की गर्दी से
हटा तन से रजाई है
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है,

मन में नई मस्ती आई है
तन में भी चुस्ती आई है
गुलज़ार सभी अब बस्ती है
समान सभी तो हस्ती है
कोई ऊंच नीच दुनियाँ में
यह बात बताने आई है
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है
निकलेंगे घरों से हम
तोड़ बंधनों को सब
जकड़ें हैं जिसमें सर्दी से
बर्फ़ शीत की गर्दी से
हटा तन से रजाई है
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है,

हर चेहरा हैं हँसता हँसता
फूल कली भी खिलता खिलता
तितली बागों में आई है
मचलती लेती अंगड़ाई है
भौरों को नहीं सुहाई है
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है
निकलेंगे घरों से हम
तोड़ बंधनों को सब
जकड़ें हैं जिसमें सर्दी से
बर्फ़ शीत की गर्दी से
हटा तन से रजाई हैं
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई हैं,

गुड़ तिल औऱ मूंगफली
दान पुण्य और मिला मिली
रंगे बिरंगे पतंगों का डोर
भरा आकाश का ओर छोर
बढते रहना सबसे आगे
छोड़कर हर मुश्किल पाछे
कटे ना काँटे किसी के धागे
छोड़ भँवर में क़भी ना भागे
यह बात सबकों बतलाई है
मकर संक्रांति आई है
एक नई क्रांति लाई है।।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *